कश्मीर में पत्थरबाजी का क्या है 10 से कनेक्शन ?

दिल्ली:  जम्मू कश्मीर में 46 दिनों बाद भी हालात सामान्य नहीं हुए हैं। हिजबुल आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद जो अशांति कश्मीर में फैली वो आज तक कायम है। प्रदर्शन और झड़पों में अबतक 70 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि सैंकड़ों लोग घायल हैं। अशांति की जांच में जुटी NIA की जांच में कई चौंकाने वाले खुलासे सामने आए हैं। जिसमें ये बात सामने आई है कि कश्मीर में पत्थरबाजी के लिए विदेशों से फंडिंग की जा रही है। NIA को जानकारी मिली है कि वहां 8 लोगों के अकाउंट में पिछले कुछ समय में 4-5 करोड़ रुपये जमा कराए गए।

खासबात ये है कि जिनके अकाउंट में करोड़ों रुपये जमा कराए गए उनकी हैसियत ऐसी नहीं है कि वो इतने पैसे अपने अकाउंट में रख सकें। उनके आयकर रिटर्न का कोई रिकॉर्ड नहीं है। ये रकम 3-4 लाख रुपये कर के जमा कराए गए हैं। अकाउंट में जमा इस रकम को काफी सोचकर समझकर निकाला गया। 10-10 हजार के चेक से इस रकम की निकासी की गई। जांच में ये बात भी सामने आई है कि इनके अकाउंट में पैसे खाड़ी देशों से जमा कराए गए। कश्मीर में हालात बिगाड़ने के लिए फंडिंग के इस खेल में कई लोग शामिल हो सकते हैं। पूरे खेल का खुलासा जांच के बाद ही हो पाएगा। इस मामले में बैंकों के अधिकारियों से भी पूछताछ हो सकती है। इसमें कुछ बड़े व्यापारी भी शामिल हो सकते हैं। NIAको कश्मीर के 10 जिलों में फंडिंग होने का शक है। जानकारी ये भी मिली है कि पत्थर फेंकने के लिए उन्हें 300-700 रुपये तक दिये जाते हैं। जम्मू कश्मीर में 46 दिनों बाद भी हालात सामान्य नहीं हुए हैं। हिजबुल आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद जो अशांति कश्मीर में फैली वो आज तक कायम है। प्रदर्शन और झड़पों में अबतक 70 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि सैंकड़ों लोग घायल हैं। अशांति की जांच में जुटी NIA की जांच में कई चौंकाने वाले खुलासे सामने आए हैं। जिसमें ये बात सामने आई है कि कश्मीर में पत्थरबाजी के लिए विदेशों से फंडिंग की जा रही है। NIA को जानकारी मिली है कि वहां 8 लोगों के अकाउंट में पिछले कुछ समय में 4-5 करोड़ रुपये जमा कराए गए।

खासबात ये है कि जिनके अकाउंट में करोड़ों रुपये जमा कराए गए उनकी हैसियत ऐसी नहीं है कि वो इतने पैसे अपने अकाउंट में रख सकें। उनके आयकर रिटर्न का कोई रिकॉर्ड नहीं है। ये रकम 3-4 लाख रुपये कर के जमा कराए गए हैं। अकाउंट में जमा इस रकम को काफी सोचकर समझकर निकाला गया। 10-10 हजार के चेक से इस रकम की निकासी की गई। जांच में ये बात भी सामने आई है कि इनके अकाउंट में पैसे खाड़ी देशों से जमा कराए गए। कश्मीर में हालात बिगाड़ने के लिए फंडिंग के इस खेल में कई लोग शामिल हो सकते हैं। पूरे खेल का खुलासा जांच के बाद ही हो पाएगा। इस मामले में बैंकों के अधिकारियों से भी पूछताछ हो सकती है। इसमें कुछ बड़े व्यापारी भी शामिल हो सकते हैं। NIA को कश्मीर के 10 जिलों में फंडिंग होने का शक है। जानकारी ये भी मिली है कि पत्थर फेंकने के लिए उन्हें 300-700 रुपये तक दिये जाते हैं।

Loading...

Leave a Reply