इरोम शर्मिला ने खत्म किया 16 साल पुराना अनशन, AFSPA के खिलाफ था अनशन

इंफाल: मणिपुर में आर्म्ड फोर्सेस स्पेशल पावर एक्ट यानि AFSPA के खिलाफ 16 साल से अनशन कर रही इरोम शर्मिला ने अपना अनशन खत्म कर दिया है। इरोम ने जमानत बॉन्ड भी भर दिया है। उनके वकील ने बताया कि इरोम को 10 हजार के पर्सनल बॉन्ड पर रिहा कर दिया गया है। इरोम ने कहा कि उनकी लड़ाई तो अब भी जारी रहेगी लेकिन अब वो सक्रिय राजनीति में रहकर लड़ाई लड़ेंगी।
इरोम के अनशन खत्म करने से उनके दोस्तों में काफी उत्साह है। उनका मानना है कि इरोम का ये फैसला मणिपुर से AFSPA हटाने की उनकी लड़ाई में एक मील का पत्थर साबित हो सकता है। इरोम से पहले भी भूख हड़ताल खत्म करने की अपील की गई थी। लेकिन उनकी जिद थी कि जबतक मणिपुर से AFSPA नहीं हटेगा तबतक उनका भूख हड़ताल जारी रहेगा।
इरोम 2 नवंबर 2000 को भूख हड़ताल पर बैठी थीं। भूख हड़ताल के तीसरे दिन इरोम को गिरफ्तार कर लिया गया था। लेकिन बाद में उन्हें रिहा कर दिया गया था। असम राइफल्स के जवानों के साथ मुठभेड़ में 10 लोगों की मौत के बाद इरोम ने भूख हड़ताल शुरु की थी।
इरोम के राजनीति में उतरने के फैसले का असर आनेवाले दिनों में राज्य की सियासत पर असर डाल सकता है। माना जा रहा है जिस मांग को लेकर इरोम 16 साल से अनशन पर थीं उसे पूरा करने के लिए सक्रिय राजनीति में आना जरुरी है। शायद यही सोच कर इरोम ने अपना 16 साल पुराना अनशन खत्म कर चुनाव लड़ने का फैसला लिया है। इरोम कीसी पार्टी में शामिल होंगी या फिर निर्दलीय रहकर चुनाव लड़ेंगी इस बारे में अभी कुछ भी साफ नहीं है।

Loading...

Leave a Reply